कहानी जातिवाद की…

hello दोस्तो,

आज मैं जातिवाद को एक कहानी के माध्यम से समझाने की कोशिश कर रहा हूं,

अगर आप इस कहानी को पहचान पाए तो कमेंट में मुझे बताएं मैंने किस कहानी से जातिवाद की तुलना की हैं।

एक बिंदु को शुरुआत मानते हुए कहानी शूरू करते हैं।

दो भाई जिनमे से एक का नाम दलित और दूसरे का नाम सवर्ण था

सवर्ण को उसकी बुद्धि की वजह से ज्यादा स्नेह प्राप्त हुआ

जबकि दलित को हमेशा ही उसकी कमजोरियों की वजह से अलग रखा गया

1—-

उस वक्त बीमारियों, प्रलय, पोलियों आदि के डर से गंदगी में काम करने वाले दलित भाई को साबुन, दवाओं की कमी से जूझ रहे सवर्ण भाई ने, दलित भाई से दूरी बना ली।

2—-

जब हर तरफ सवालों, अपने अस्तित्व, चीजों के व्यवहार और जिज्ञासा का दौर आया तब सवर्ण भाई ने अपनी बुद्धि से डर का व्यापार शूरू किया

सवर्णो के जवाबो ने सवर्णो को एक सम्मान का पद दिला दिया

जब सवर्णो की कहानियों और बुद्धिमानी का डंका बज रहा था, तब उनसे निरोगी रहने का रास्ता पूछा तो सवर्ण ने सफाई से रहने के नियम और गंदगी से दूर रहने की सलाह दी

3—-

सवर्ण भाई की इस सलाह से नासमझ दलित भाई को जो कि सफाई का काम करता था या जिसके काम को साफ नही माना जाता था, उससे दलित भाई हमेशा दुत्कारा गया

4—-

वक़्त बदला सालों से भेदभाव झेल रहे दलित भाई के मन में अत्याचार लावा बन कर धधक रहा था

जब दोनों भाइयों की संतानें हुई तो सवर्ण भाई के पुत्र उस भेदभाव से अनजान थे

वही दलित की संतान अपना खोया हुआ सम्मान पाना चाहती थी

5—

जब जब खुद को साबित करने का वक़्त आया तब दोनो ने अपनी अपनी प्रतिभा दिखाई

दलित पुत्र ने अपने पिता पर हुए अत्याचार और भेदभाव का वास्ता दे कर अतिरिक्त लाभ लिया

सवर्ण पुत्र को इसका एहसास था और उसने कुछ ना कहते हुए अपनी अलग दुनिया बनाई

वक़्त अपनी रफ्तार से चलता रहा सवर्ण पुत्र जो अपनी बुद्धि और माहौल के कारण सम्मानीय था, दलित पुत्र को अपने पिता के अत्याचार की कहानियां सुना कर उसके मामा ने दलित पुत्र के मन मे भी उसके पिता के अत्याचार का बदला लेने का बीज बो दिया।

6—–

जब कभी दलित पुत्र, सवर्णो की नगरी में गया तो सवर्णो द्वारा बनाए गए संसार में कुछ गलती करने के बाद उपहास का पात्र बना

लेकिन दिल मे बसी नफरत के कारण उसने इसे अपनी बेज्जती मान कर इसका बदला लेने का विचार बना लिया

7—–

जब बात हक की होने लगी तब अपने पिता का वास्ता, माहौल और वीरसती साधनों की कमी की कमी बता कर हमेशा, हर जगह सवर्ण पुत्र से अधिक लाभ लेने लगा

8——

काफी समय तक ऐसे ही लाभ लेने के बाद भी दलित भाई का बदला पूरा नही हुआ था वो सवर्ण से आगे खुद को देखना चाहता रहा

उसने अपने मामा के साथ कई तरह की चाल चल कर हर जगह सवर्ण को उनके हक से दूर रखा……

यहाँ भेदभाव की कहानी को आज तक निरंतर मान कर आज की परिस्थितियों से जोड़ कर देखे

अगर आप इस कहानी को पहचान गए हो तो मुझे बताए, अगर नही पेहचान पाए हो तो पूछ लीजिये

ये कहानी काल्पनिक हैं, इसे बस एक महाकाव्य से जोड़ने की कोशिश की हैं, मेरा उद्देश्य किसी की भावनाओ को ठेस पहचान नही है, और मैने सच को परोसने की कोशिश की हैं

इस जातिवाद का अगर अंत चाहते है। तो जातिवाद को ही खत्म करना पड़ेगा

एक बराबरी का स्तर ले कर बदले की भावना को खत्म करना होगा, अन्यथा इसके अंत मे ऐसा युद्ध होगा के मिट्टी को भी अपना रंग बदलने पड़ जाएगा 🙏

Advertisements

Opposite side of the Coin

मुझे इसीलिए भी ये दुनिया अच्छी नहीं लगतीं

अखबारों मे अच्छी से ज्यादा बुरी खबरें पड़ता हु

मै समाज के उस वर्ग का प्रतिनिधित्व करता हूँ

जो समय पर अपने बिजली बिल भर देता है

लेकिन उसका एक दिन का भी बिल माफ नहीं होता

जो समय पर अपना टेक्स भरता हैं

किन्तु उसे इसमे छूट नहीं मिलती

जिसे हर जगह सामान्य बोल कर अलग कर दिया जाता हैं

किंतु मै इस असामान्य व्यवहार के लिये शिकायत नहीं करता

जिसने कभी किसी को उनकी जाति से नहीं पारखा

किंतु उसे हर वक़्त उसकी जाति देख कर पुनः प्रयास को केह दिया जाता है

जो अपना वोट वक़्त पर देता है

किंतु उसकी भलाई के लिये कोई कानून नहीं बनता

जो बहन बेटियों के आरोपियों को कानून को सोप देता है

किंतु कानून उन्हे सालों तक बिरयानी खिलाता है

जो कानून के रखवालों पे भरोसा करता हैं

किंतु कानून भूखमरी में चंद पैसों मे बिक जाता हैं

जो अपने निजी मामलों में कानून हाथ में नहीं लेता है

किंतु कानून सालों का वक़्त और पैसा लेकर उन्हे इस काम का इनाम देता है

*अगर किसी को फायदा सिर्फ इसलिए दिया जा रहा है के उनके पूर्वजों पर अत्याचार हुए हैं?

तो महिलाओ को उनका हक लौटाने में हमारी पीढ़ीया गुजर जाएंगी…….

*अगर पिछड़ापन फायदा पहुचाने की वजह है तो जाति को क्यू देखा जाता है?

*अगर आर्थिक नजरिए से देखा जा रहा है तो बंगले मे रहने वाला इसका लाभ क्यू ले रहे है?

*अब जो इसकी वजह से पीछे हो रहे है क्या वो भी ऐसा ही करें?

*इस लाभ को कितने वक़्त तक ऑर दिया जाएगा?

*जिनको इससे लाभ मिल चुका है क्या उन्हे अब सूची से अलग कर देना नहीं चाहिए क्या?

*एक दूसरी तरफ खडे हो कर समाज का हिस्सा बनने के लिए ये कैसी चाल है?

*अगर ये ऐसा ही चलता रहे तो क्या हमे इस भेदभाव को करते रहना चाहिए?

*यह निरंतर लाभ मानसिक हताशता ऑर विकलांगता को पैदा नहीं कर रहा हैं?

IPL रिश्तो का 🙂

इस पोस्ट में मैं एक सोच को साझा कर रहा हु। मैं समझता हु समाज में इस तरफ भी बदलाब हो और ऐसी सोच का और ऐसे सोच वालो को स्वीकार किया जा सके

IPL एक ऐसा मंच जिसमें विभिन्न देशों के खिलाड़ी एक झंडे के नीचे खेलते है…

क्या ये मुमकिन है। के दो इंसान समान या असामान वर्ग और लिंग के एक साथ रहे या अपना जीवन साथ गुजारे? और इससे किसी को कोई आपत्ति ना हो?

हर इंसान अपने आप में अलग है। हर इंसान हर परिस्थिति में अलग वर्ताव करता है। तो फिर किसी भी इंसान को हर परिस्थिति में किसी एक इंसान के साथ रहने पे मजबूर क्यों किया जाता है।

जिसे हम साधारण भाषा में शादी कहते है.. ये शादी ना होकर एक गले का पट्टा है, एक बंदिश है …. जब तक आप खुश है, आप इसके अंदर रह लेते है। लेकिन किसी परिस्थिति में अगर कुछ आसामान्य घटना हो जाती है। तब यही पट्टा आपको कहीं जाने आने भी नही दे सकता, भले ही पट्टे में कुछ चुभता हो या घर में आग लगी हो आपको सहना पड़ेगा ।

मैंने अक्सर देखा है। औरतों पे उनका पति ज़ुल्म करता है। लेकिन पत्नी उस पटटे के कारण न कही जा सकती है और न ही भाग सकती है।

जैसे IPL के मैच में किसी भी देश का खिलाडी किसी टीम का हिस्सा बन जाता है और जब तक वो चाहे तब तक उसका हिस्सा रहता है

क्यों न ऐसे ही हम किसी के भी साथ दोनों की मर्ज़ी से जब तक चाहे साथ रहे

क्या जरूरत है किसी tag की…

मुझे पता है क्या क्या आप सोच रहे होंगे और कैसे कैसे सवाल आपके दिमाग में उठ रहे होंगे

कुदरत ने बच्चा पैदा करने की शाक्ति सिर्फ औरतों को दी है। तो वो अपने बच्चे को जिसके साथ रखना चाहे रखे और सरकार ऐसे वर्ग को समाज में आगे रखे….

सब एक दूसरे की जरूरत है। और एक दूसरे के बिना मनुष्य जैसे सामाजिक प्राणी का जीवन संभव नही है। तो अगर ये बात आम हो जाए तो लोग अपनी छोटी मानसिकता से ऊपर उठेंगे।

और आज़ादी का सही मायनों में दुरुपयोग नही होगा, तब हम प्यार और ज़िन्दगी में नयापन महसूस कर सकेंगे

शायद मैं गलत हो सकता हु अपने विचार मुझे बताए

और हां मैं शादी से त्रस्त नही हु ना घर पर शादी की बातों से परेशान 😂😂😂😂

इसे personal ना करे 😉🙏

सोच का अंतर

अभी कुछ दिनों पहले हमारे whatsapp group में एक शायरी आई जो इस प्रकार थी

“इंसान को अपनी नज़र में सही होना चाहिए

वरना दुनिया तो भगवान से भी दुखी है।”

ये शायरी सुनने में जितनी अच्छी लगी इतनी ही ज्यादा मैंने इसके बारे मे सोचा। असल मे ये हमारे दैनिक बोलचाल में बार बार आने लगी… तो मैंने इसपे ज़रा ध्यान दिया

अगर सभी अपनी नज़र में सही हो जाए तो? प्रश्न साधारण हैं लेकिन ये किसी की सोच बदल भी सकता है। अगर सभी अपनी खुद की नज़रों में सही है तो गलत कोन होगा। और इससे गलत काम करने वालो को रोकने की बात कोन करेगा

अगर सभी अपनी अपनी नज़र में सही हैं तो वो बलात्कारी आदमी भी गलत नही करता है.. क्योंकि उसे ये लगता है सभी लड़कियां बदचलन है या लड़कियां इस्तेमाल की चीज़ है। इसी तरह वो आतंकवादी भी अपनी नज़र मे सही है क्यूंकि उन्हें ये पता है। के इससे उन्हें जन्नत मिलेगी और यह अच्छा काम है। अब मैं अपना प्रश्न दोहराता हु “क्या सभी को अपनी नज़र में सही हो जाना चाहिए?”

मेरा मानना यह है। के इंसान की फितरत होती है वो हर काम करने के बाद उसके परिणाम से खुद के लिए कहानियां बना कर खुद को संतुष्ट कर लेता है। यहां एक दृटिकोण का अंतर आ जाता है।

अगर आपके किसी काम के लिए कोई टोक दे तो हम अड़ कर बात टाल देते है। हमे यहाँ बात को सुनने की जरूरत हैं। अपना तर्क देते हुए इस पर बात करनी चाहिए उससे ही जो आपको टोक रहा है। और हां आप गलत हो ये मुमकिन है। तो आप बहस की वजय बात करे ।

मैं खुद से विचार करके काम करता हु। मैं कुछ बातों को खुद से पूछ लेता हूं जिसमे मुझे कुछ पल भी नही लगते है। वो कुछ बातें ये हैं:-

– क्या इससे किसी का नुकसान हो रहा है?

-क्या इससे बेहतर कुछ हो सकता है?

-क्या ये करना जरूरी है?

-अगर ये ना किया जाए तो क्या होगा?

-ये काम कर लेने के बाद मुझे अपना सर या अपनी आवाज नीची तो नही करनी पड़ेगी (self-respect)?

मैं एक स्वभिमानी इंसान हु। और कभी अपनी वजह से अपना या किसी का सर नीचा नही करवाना चाहता हु। ये कुछ पल की खुद से बात कोई बड़ा बदलाव तो नही ला सकती लेकिन इतना जरूर है। शायद ये आपको कल से बेहतर इंसान बनने में मदद जरूर करेंगी।

और हाँ मैं यहाँ गलत भी हो सकता हु.. मेरी सोच गलत हो तो आपकी राय का स्वागत है। ☺️

एक उम्र विश्वास करने की

एक बात मैंने हमेशा नज़र में रखी है। लगभग मेरे आस पास की हर लड़की को ये भरोसा होता है के वो भगवान की बोहोत खास है। और भगवान उसकी बातें या उसकी हर मुराद पूरी करते ही है।

मैं भगवान के होने ना होने की बहस से अलग बात कर रहा हु वह बात है विश्वास करने की उम्र की

मुझे ऐसा लगता है  जब हमे कुछ नही पता होता है उस वक़्त विश्वास का जन्म होता है।

जैसे कोई बच्चा अब समझ सकने या सीखने लायक हो जाता है। तब हमें उसे सीखना होता है  उस वक़्त उसके भीतर विश्वास होता है। जो उसे सीख मिलती है वह उसे विश्वास करके मान लेता है। 

बचपन के किन्ही मुश्किल दिनों में जब इनतजार की घड़ियां होती है। वो वक़्त उनके विश्वास को कम या ज्यादा करता है। लगभग उम्मीद के मुताबिक हर बार जो होता है। उसके हिसाब से हम अपना नजरिया बना लेते है।

इंसान में एक खूबी होती है। खुद को संतुष्ट कर लेने की वो जब तक संतुष्ट नही हो जाता अंत नही मानता ।

गलत बातो पर भी इंसान खुद को संतुष्ट करके गलत धारणाये बना लेता है। या उन्हें ही सच मानने लगता है।

ये बात मैंने मेरी पढ़ाई (compitition exams) के वक़्त समझी

हम गलत बातो के पीछे भी कहानिया बना कर खुद को सही समझ लेते है। शायद यही वो वक़्त है जब हम सही बातों को सुने ओर माने । यही वक़्त मतलब अभिज्ञता का वक़्त 

विश्वास का वक़्त

कुछ भी सत्य मान लेने से पहले सच पता कर लेना चाहिए एक जगह से नही एक से अधिक जगहों या दिमागों से 

धन्यवाद

रिस्वतखोरी औऱ अमीरीयत

Hello दोस्तो,

भारत देश कई सालों से भष्टाचार औऱ रिश्वतखोरी जैसी समस्याओं से लड़ रहा है। क्या इसका कोई अंत हैं?

क्या गरीबो की जेब कटनी बन्द होगी??

शायद नहीँ, भारत जितना गरीब देश है उससे कई हद से ज्यादा पैसों को लेकर हवसी भी है। अपने साथ अपनी संतानों तक का पैसा एक इंसान खुद पाना चाहता है। शायद काम करने से उसे उतना पैसा और इज्जत नही मिलती जितनी उसे गलत काम करने से मिल जाएगी।

इसका एक उपाय है रिस्वत खोरी के लिए शायद मैं गलत हो सकता हु लेकिन ये मेरा सोचना है….

 

क्यों ना रिस्वत को legal घोषित कर दिया जाए? कैसे?

तो थोड़ा इमेजिन कीजिये हर काम की समयसीमा निर्धारित की जाए। उदहारण के लिए मान लीजिये एक driving licence बनने मैं 25 दिन लगते है। औऱ हर काम की एक समयसीमा निर्धारित हो कर दफ्तरों मैं चिपका दी जाए।

इससे रिस्वतखोरी का काम ये है। अमीर सब नही बन पाते है। या यूं कहें अमीर बनना सबके बस की बात नही है। अमीरो को इससे फायदा मिलना चाहिए

जिसे अपना काम पहले करवाना हो वो निर्धारित अतिरिक्त शुल्क जमा करवाए जो सरकार के खाते में जाए और इन कामो का कुछ प्रतिशत काम करने वाले को जाए

इन कामो को extratime में ही किया जाए जिससे बाकी काम मैं दखल ना हो और अमीर अपना कीमती समय बचा सके…

इससे लोग अपना काम जल्दी करवाने के लिए रिस्वत तो देंगे लेकिन वो सरकार के पास भी जाएगी

कभी कभी किसी चीज का अंत उसके बीच में से हो कर गुजरता है।

आपको इसमे जो खामिया लगे कमेंट में बताए

धन्यबाद

 

 

भारत में गरीबी और त्योहार

Hello दोस्तो,

भारत मे यूँ तो हर महीने कोई ना कोई त्योहार आता रहता है । बरसो से यही हमारी पहचान भी रहे है। किसी विदेशी से भारत का जिक्र किया जाए तो वो सबसे पहले रंग, तीखा खाना ही इमेजिन करेगा।

लेकिन हमारे देश की गरीबी हमारी पहचान के आड़े आ रही है।

अब हर त्योहार मनाने से रोका जाता है। पॉल्युशन या किसी चीज़ का वास्ता दे कर हमें त्योहारो से दूर किया जाता है।

मैं एक उदाहरण देना चाहूंगा स्पेन नाम के देश के अंदर एक त्योहार मनाया जाता है La Tomatina इस त्योहार को मनाने के लिए दुनिया भर से लोग आते है और ये वहां की पहचान है।

अगर यही त्योहार भारत मे मनाया जाता तो यकीनन इसे खाने की बर्बादी, चोट लगने का वास्ता दे कर इससे दूर होने को कहा जाता

सारांश बस इतना सा है। किसी चीज़ को इग्नोर नही करना चाहिए। दुबई अपने पेट्रोलियम संसाधन के खत्म होने के बारे मे जनता था इसीलिए उसने दुबई को पर्यटन स्थल बनाया

त्योहार हमारी धरोहर हमारी पहचान है। इसे ज़िंदा रखना और खुशियां मनाना हमारी जिम्मेदारी है। गरीबी को दूर रख कर हमें खुल कर त्योहार मनाने चाहिए।

ओर इसके विरोधियो को समझना चाहिए के बाकी दिन ज्यादा मेहनत करे एक दिन रोकने में मेहनत न करे

धन्यबाद